पूर्णकालिक सचिव ने कैदियों को उनके अधिकारों की जानकारी दी

 पूर्णकालिक सचिव ने कैदियों को उनके अधिकारों की जानकारी दी

गाजीपुर। राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण लखनऊ के निर्देश के अनुपालन में बुधवार को जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की पूर्णकालिक सचिव कामायनी दूबे द्वारा जिला जेल में शिविर का आयोजन किया गया। इस दौरान उन्होंने जेल के साथ ही जेल में स्थापित लीगल एड क्लिनिक का निरीक्षण किया। संबंधितों को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया।

शिविर में सचिव ने बंदियों से निःशुल्क अधिवक्ता, जेल लोक अदालत तथा उनकी जेल अपील से संबंधित अन्य समस्याए पूछा। उनके यथोचित अधिकार के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिया। बंदियों को जेल में स्थापित अधिवक्ता, जेल लोक अदालत, उनके अधिकारों के विषय में विस्तृत जानकारी दी। जेल अधीक्षक द्वारा बताया गया कि वर्तमान में कुल 1020 बंदी निरूद्ध हैं। इसमें 719 पुरुष, 37 महिला बंदियों के साथ कुल 2 बच्चे निरूद्ध है व 62 अल्पवयस्क हैं। सुबह के नाश्ता में दलिया, चाय, दोपहर के भोजन में रोटी, चावल, उर्द-राजमा की दाल, सब्जी (आलू, भिंडी), शाम के भोजन में रोटी, चावल, अरहर की दाल, सब्जी (आलू, लौकी) रहा। सचिव द्वारा पुरूष एवं महिला बैरक का भी निरीक्षण किया गया। जेल के कई बंदियों से बात कर उनकी समस्याओं को समझने के साथ ही उसके निस्तारण का निर्देश दिया। सचिव ने कारापाल को जिला कारागार में स्थित जेल लीगल क्लीनिक पर विशेष रूप से ध्यान देने का निर्देश दिया ताकि जेल में निरूद्ध बंदियों को समय से व समुचित विधिक सहायता प्राप्त हो सके। बैरक एवं कारागार परिसर में साफ-सफाई, मच्छरों से बचाव के लिए दवा का छिड़काव के लिए निर्देशित किया। इस अवसर पर कारापाल शिवकुमार यादव व उप करापाल कमलचंद आदि उपस्थित रहे।